हस्तमैथुन के फ़ायदे नुकसान और अफवाहें



हस्तमैथुन  या मुठ मारना - खुद से अपने शरीर के अंगों को छू कर सेक्स की उत्तेजना अनुभव करना का एक तरीका है, जिसमे अकसर व्यक्ति orgasm, ejaculation या climax तक पहुँच जाता है, यानि उसका sperm उसके penis (लिंग) या vagina ( योनी) से बाहर निकल आता है।

पुरुष आमतौर पर ऐसा अपने erected penis को हाथ में लेकर उसे आगे-पीछे करते हैं जब तक कि वे क्लाइमेक्स तक ना पहुँच जाएं जबकि महिलाएं अपनी उँगलियों से वैजाइना को छू कर ये काम करती हैं।
हस्तमैथुन या masturbate करने से पहले किसी उत्तेजक फोटो या विडियो को देखना या बस यूँही कुछ बेहद सेक्सी imagine करके अपने sexual parts को उत्तेजित करना भी इसका एक हिस्सा है।
1.हस्तमैथुन करने से कैसे बचें और इससे होने वाले नुकसान

2.महिलाओं के लिए हस्तमैथुन हानिकारक है या लाभप्रद




यह आपके Body में कमजोरी लाता है. आपने जरुर नोट किया होगा जब आप हस्तमैथुन कर लेते हो उसके बाद आपके अंदर की शक्ति कम हो जाती है. आपको ऐसा लगता होगा जैसे सारी ताकत खत्म हो गई हो और उसे पाने के लिए आप फिर से अपने लिए कुछ खाने के लिए ढूंढने लग जाते हो.
हस्तमैथुन करने के बाद ठीक इसका उल्टा होता है तो फिर हस्तमैथुन करने का फायदा क्या. अगर यह हमें ख़ुशी न दे तो इससे दूर रहना ही सही है. अगर हम अंदर से खुश रहेंगे और हमारे अंदर हमारे लिए Self – Respect होगी इससे हम कोई भी परेशानी या काम को बहुत ही आसानी से कर सकते है. हमारे अंदर की शक्ति ही हमें मजबूत बनाती है. जिस इंसान के अंदर जितनी अच्छी आदते होंगी वह इन्सान उतना ही मजबूत होगा. Best Sexologist in Delhi
कई लोग ऐसे होते है जो जल्दीबाजी के चक्कर में बहुत तेजी से हस्तमैथुन (Masturbation)करने लगते है. जिस कारण उनका वीर्य (viry) से पहले निकलने वाला तरल पानी उनके लिंग (ling) की मासपेशियों में चला जाता है. इसका रिजल्ट यह होता है कि व्यक्ति के लिंग में सूजन आने लगती है और तब तक रहती है जब तक वह वापस खून (blood) में न मिल जाये
कई लोग हस्तमैथुन (masturbation) करते समय अपने लिंग (penic) को बहुत ही मजबूती से जकड़ लेते है और उसे दबाने या मोड़ने लगते है वे सोचते है की ऐसा करने से वीर्य बाहर नहीं निकलेगा. यह करना सही नहीं है. ऐसा करने से आपको गंभीर समस्या का सामना करना पड़ सकता है. ऐसा करने से आपके लिंग की मांसपेशियां टूट सकती हैं जो की बहुत ही नाजुक होती है.
शुक्राणुओ की संख्‍या में कमी होना , मानसिक तनाव का होना
पाचन तंत्र पर बुरा असर होना, लिंग में उत्तेजना का बंद हो जाना,
एक रिसर्च के मुताबिक, 18 से ऊपर उम्र की अधिकतर महिलाओं ने कम से कम एक बार हस्तमैथुन किया था, लेकिन कुछ महिलाएं इसे नियमित तौर पर करती हैं. इंडियाना यूनिवर्सिटी के नैशनल सर्वे के अनुसार, 25 से 29 के बीच 7.9 प्रतिशत महिलाएं एक सप्ताह में 2-3 बार हस्तमैथुन करती हैं.  वहीं 23.4 प्रतिशत पुरुष एक सप्ताह में 3-4 बार हस्तमैथुन करते हैं.हस्तमैथुन सामान्य, आनंददायक और हेल्दी एक्सपीरियंस है. ऑर्गैजम से एंडॉरफिन्स डोपामाइन और ऑक्सीटोसिन रिलीज होता है जिससे आपके मूड को अच्छा बनाने में मदद मिलती है. 
हस्तमैथुन से मासिक धर्म से जुड़ी परेशानियों को दूर करने में मिल सकती है. मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द से हस्तमैथुन से निकलने वाले रसायन की वजह से राहत मिलती है.
निद्रा को दूर करने का यह सबसे सुरक्षित और बेहतर तरीका है खासकर मर्दों के लिए. क्योंकि इसके बाद मर्दों में यौन इच्छा खत्म हो जाती है और उन्हें नींद आने लगती है.
इससे शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्तर पर रिलैक्स होने का एहसास होता है.
हस्तमैथुन से एक बेहतर यौन संबंध बनाने का मौका मिलता है.
इससे उन महिलाओं को भी मदद मिलती है जिन्हें ऑर्गेज्म नहीं होने की समस्या होती है.
For Book An Appointment with us  - Sexologist in Delhi,  Best Sexologist in Delhi, Best Sexologist Doctors in Delhi


Comments

Popular posts from this blog

शीघ्रपतन क्या है ? शीघ्रपतन के कारण लड़के और लड़कियों में , लक्षण और शीघ्रपतन का उपचार!

MALE SEXUAL PROBLEMS